Thursday, 17 August 2017

आज जाने वो घड़ी खुशनसीब है

आज जाने वो घड़ी खुशनसीब है
या उस घड़ी में हम
आकड़ा लगाना मुश्किल है
एक खुवाहिश रखी थी खुदा के आगे
उसने झट पूरी कर दी
मैने कटोरी माँगी थी
उसने पूरी थाली मेरी करदी ............

No comments:

Post a Comment