Wednesday, 2 August 2017

भारत पर अभिमान करो

भारत पर अभिमान करो
उँचा उसका नाम करो,
फक्र  से  सीना  तान  कर , कह सको भारतीए हो
तुम ऐसा  कुछ  काम  करो ,
क्योंकि
 खुश नसीब हो तुम, जो यहाँ हो जाने
याद रखो तुम इसकी मिट्टी से हो बने
ये वही भूमि है
जो वीरो की कुर्बानी से सनी है
इसका तुम सम्मान करो
खुद से उँचा उसका नाम करो
जय भारत



No comments:

Post a Comment